जब भी हम गाजर की बात करते हैं तो हमारे दिमाग में लाल गाजर का ही ख्याल आता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि गाजर का रंग भी काला होता है। पोषण से भरपूर, काली गाजर एंथोसायनिन से भरपूर होती है, दो जो इसे गहरा बैंगनी रंग देते हैं जो लगभग काला दिखता है।
भारत में सर्दियों का मौसम गाजर के बिना अधूरा है. काली गाजर से कांजी, हलवा आदि बनाया जाता है। कई छोटे शहरों में आप इन चीजों को सड़कों पर बिकते हुए देखेंगे। इसके अलावा इस गाजर का जूस भी बनाया जा सकता है, जिससे आपको सुबह ही ताकतवर एंटीऑक्‍सीडेंट का बूस्‍ट मिलेगा। तो आइए जानते हैं काली गाजर खाने से क्या-क्या फायदे होते हैं।

यू
दिल की सेहत के लिए फायदेमंद
काली गाजर में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देते हैं। यह थक्का बनने से रोकता है और प्लेटलेट्स के कामकाज में सुधार करता है। काली गाजर में मौजूद पोषक तत्व रक्त वाहिकाओं को आराम देने और हृदय स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद करते हैं। यह रक्त में कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है।

काली गाजर में एंटी-कार्सिनोजेनिक गुण होते हैं
काली गाजर में एंथोसायनिन होता है, जो कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकता है और शरीर में सूजन को कम करता है।
वजन कम करने में मददगारकाली गाजर में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स में एंटी-ओबेसिटी गुण भी होते हैं, जो वजन बढ़ने से रोकते हैं, फैट को कंट्रोल में रखते हैं और मेटाबॉलिज्म में सुधार करते हैं।
उयी
दृष्टि में सुधार करता है
लाल गाजर की तरह काली गाजर भी आंखों की रोशनी के लिए अच्छी होती है। ग्लूकोमा और रेटिनल इन्फ्लेमेशन से पीड़ित लोगों के लिए यह फायदेमंद साबित होता है। साथ ही इसका इस्तेमाल आंखों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाने का काम करता है।
पाचन स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है
काली गाजर फाइबर से भरपूर होती है, जो कब्ज, सूजन और पेट फूलने जैसी पाचन संबंधी समस्याओं में मदद करती है।

काली गाजर के अन्य स्वास्थ्य लाभ
तंत्रिका स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकता है।
प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है।
आंतों के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद।
एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर।
यह विटामिन-ए का उच्च स्रोत है।
मोटापे से लड़ता है।

By Sonya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *