वायरल न्यूज: दावा किया गया है कि सर्दियों में हार्ट अटैक का खतरा ज्यादा होता है। यदि सुबह बहुत अधिक ठंड हो तो रक्त वाहिकाएं सिकुड़ जाती हैं और इससे दौरों की संख्या बढ़ जाती है। इस दावे से दिल के मरीजों में डर का माहौल है. लेकिन, क्या ये दावा सच है…? इसे सत्यापित करना आवश्यक है। इसलिए हमने इस दावे की पड़ताल शुरू की। इस बारे में अधिक जानकारी हृदय रोग विशेषज्ञ ही दे सकते हैं। तो उनसे और जानकारी प्राप्त करें…
तो आइए देखते हैं कि हमने अपनी पड़ताल में क्या पाया… ठंड में हार्ट अटैक खतरा होता
ठंड के मौसम में दिल के मरीजों को ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए। ज्यादा तला हुआ खाना न खाएं। हृदय रोगियों को डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। हमारे सत्यापन में यह दावा सही साबित हुआ कि ठंड में रक्त वाहिकाओं के सिकुड़ने से दिल का दौरा पड़ सकता है। 

 
सर्दियों में क्या रखें ध्यानठंड के दिनों में हृदय को रक्त की आपूर्ति कम हो जाती है, रक्त वाहिकाओं में ट्यूमर हो जाता है, शरीर में अतिरिक्त वसा, कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है। लेकिन कुछ जीवनशैली कारकों को नियंत्रित करने से दिल का दौरा पड़ने का खतरा कम हो सकता है। इसके लिए कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है। 
1 – शराब के अधिक सेवन या धूम्रपान की आदत हो तो उसे नियंत्रण में लाएं

 
2 – शारीरिक और मानसिक तनाव कम करें, लगातार तनाव के कारण हृदय की धमनियों में सूजन आ जाती है जिससे रक्त का थक्का जमने लगता है जिससे दिल का दौरा पड़ने की संभावना बढ़ जाती है। तनाव कम करने के लिए पढ़ने, गाने, घूमने का आनंद लें
3- अपर्याप्त नींद भी हार्ट अटैक का एक कारण हो सकती है, इसलिए रात में 7 से 8 घंटे की नींद जरूरी है. अच्छी नींद दिल को स्वस्थ रखती है।
4 – रोजाना खान-पान पर ध्यान देना जरूरी है। भोजन में नमक और चीनी का प्रयोग आवश्यक मात्रा में ही करें। आहार में बहुत अधिक मांस खाने से उच्च रक्तचाप हो सकता है, जबकि चीनी से मधुमेह हो सकता है। ये दोनों चीजें हार्ट अटैक का कारण बन सकती हैं।
5 – अपने व्यस्त कार्यक्रम में से प्रतिदिन कम से कम 30 मिनट व्यायाम करें, लेकिन यदि संभव हो तो सुबह-सुबह या ठंड के दिनों में रात के अंधेरे में व्यायाम करने से बचें।

By Sonya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *