आज की जीवनशैली में सिर दर्द एक आम समस्या बनती जा रही है। हालांकि बार-बार और असहनीय दर्द ब्रेन ट्यूमर का लक्षण हो सकता है। तेजी से बदलती लाइफस्टाइल में कम ही लोग ऐसे होंगे जिन्हें सिरदर्द की शिकायत नहीं होगी। ऐसा उनके बिजी शेड्यूल की वजह से हो सकता है। यही कारण है कि जब सिर में दर्द होता है तो लोग इसे हल्के में लेते हैं और पेन किलर से इसका इलाज करने की कोशिश करते हैं। ऐसा करना आपको मुसीबत में भी डाल सकता है। क्योंकि कुछ मामलों में हल्का सा सिरदर्द भी ब्रेन ट्यूमर का लक्षण हो सकता है। 
अगर आपके शरीर में इस तरह के बदलाव होते हैं तो इसे नजरअंदाज न करें और तुरंत डॉक्टर से सलाह लें। आपके लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि ब्रेन ट्यूमर के लक्षण क्या हैं और कब समझें कि डॉक्टर के पास जाना जरूरी है। मस्तिष्क में कोशिकाओं की अनियंत्रित और असामान्य वृद्धि को ब्रेन ट्यूमर कहा जाता है। यह दो प्रकार का होता है। प्राथमिक और द्वितीयक, यह रोग मस्तिष्क में ट्यूमर का कारण बनता है। मस्तिष्क की कोशिकाएं असामान्य रूप से बढ़ती हैं। द्वितीयक ट्यूमर में, शरीर के अन्य भागों से असामान्य कोशिकाएं भी मस्तिष्क में फैल जाती हैं। सेकेंडरी ब्रेन ट्यूमर बहुत तेजी से फैलता है।
 अब ये जानना बेहद जरूरी है कि ब्रेन ट्यूमर के लक्षण क्या हैं…
– ब्रेन ट्यूमर होने पर शरीर में कई तरह के लक्षण दिखाई देने लगते हैं।अगर सिर में सामान्य से ज्यादा असहनीय दर्द हो और ऐसा बार-बार हो तो सावधानी बरतनी जरूरीहै- जी मिचलाना, उल्टी आना और बीमार पड़ना, ऐंठन, बोलने में दिक्कत होना। , धुंधली दृष्टि, अगर आपको सुनने, सूंघने और चखने में कठिनाई होती है तो बचाएं – व्यक्तित्व या व्यवहार में बदलाव, पक्षाघात एक ट्यूमर के लक्षण हैं। चक्कर आना भी ब्रेन ट्यूमर का एक लक्षण है। इसके अलावा अगर आपको शरीर में कमजोरी, सीने में दर्द, बार-बार भूलने की बीमारी- याददाश्त पर असर और मांसपेशियों में कमजोरी महसूस हो तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लें। 
क्या करें और क्या न करें? सिरदर्द होना सामान्य बात है, ऐसी स्थिति में हल्का दर्द होने पर डॉक्टर के पास दौड़ने के बजाय थोड़ा आराम कर लेना चाहिए, लेकिन फिर भी अगर दर्द ठीक न हो और पेनकिलर से आराम न मिले तो आप डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। ऐसे लक्षण दिखने पर अगर आप पेन किलर ले रहे हैं और जब तक दवा असर कर रही है दर्द ठीक है और फिर शुरू हो जाता है तो दोबारा दवा न लें और डॉक्टर से सलाह लें। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि अगर सही समय पर पता चल जाए तो ब्रेन ट्यूमर को ठीक किया जा सकता है। खान-पान पर भी विशेष ध्यान देना चाहिए। एक स्वस्थ जीवन शैली, व्यायाम और अच्छी नींद का भी पालन करना चाहिए।

By Sonya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *