कौन शाहरुख? हिमंत के बयान के बाद आधी रात किंग खान ने लगाया फोन

अपने ही दो अलग-अलग बयान पर घिरे असम सीएम हिमंत बिस्वा सरमा ने सफाई दी है और कहा है कि वह शाहरुख ही थे जिन्होंने मुझे कॉल किया और खुद अपनी पहचान बताई.
मैंने कॉल नहीं किया... शाहरुख से बातचीत पर घिरे CM सरमा की सफाईशाहरुख खान और सीएम हिमंत बिस्वा सरमाImage Credit source: फेसबुक
असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने एक दिन पहले एक चर्चा के दौरान कहा था कि वह शाहरुख खान को नहीं जानते. इसके कुछ घंटों के भीतर ही उन्होंने फिर से एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने शाहरुख खान को ‘श्री’ शब्द से संबोधित करते हुए लिखा कि उनकी रात करीब 2 बजे बात हुई है. सीएम के इस बदलाव में विपक्षी पार्टियां तुरंत ही एक्टिव हो गईं और उन्हें याद दिलाया कि एक दिन पहले ही वह पूछ रहे थे कि शाहरुख कौन है और दूसरे ही दिन वह श्री शाहरुख हो गए. इस बीच सीएम हिमंता ने फिर से सफाई दी है.
दरअसल हिमंत ने एक दिन पहले प्रदेश में पठान मूवी की रिलीज से पहले चल रहे बजरंग दल के प्रदर्शनों के बारे में पूछा गया था तो इस पर उन्होंने कहा था कि, शाहरुख खान कौन हैं? मैं उनके बारे में कुछ भी नहीं जानता हूं और न ही उनकी मूवी पठान के बारे में. इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा था कि, ‘शाहरुख खान ने मुझे परेशानी के संबंध में कॉल नहीं किया जबकि कई बॉलीवुड सितारें ऐसा करते हैं.’
आज की बड़ी खबरें

इसके बाद उन्होंने फिर एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लिखा कि, ‘बॉलीवुड एक्टर श्री शाहरुख खान ने सुबह 2 बजे मुझे कॉल किया था. उन्होंने गुवाहाटी में उनकी मूवी की स्क्रीनिंग के वक्त हुए मामले पर चिंता व्यक्त की थी. मैंने उन्हें आश्वासन दिया है कि यह राज्य सरकार की जिम्मेदारी है कि लॉ एंड ऑर्डर बना रहे. हम पूछताछ करेंगे और सुनिश्चित करेंगे कि ऐसी कोई अप्रिय घटना न हो.’ये भी पढ़ें

तीसरी बार ट्वीट कर दी सफाई
इसी के बाद विपक्षी पर्टियों ने तुरंत ही सोशल मीडिया पर उन्हें यह याद दिलाया कि वह एक दिन पहले शाहरुख खान को जानते नहीं थे. अब वह उन्हें श्री शब्द से संबोधित कर रहे हैं. इस पर हिमंता भड़क गए हैं. उन्होंने फिर एक न्यूज रिपोर्ट को टैग करते हुए सफाई दी है. उन्होंने लिखा, ‘श्री मेरे ऑफिस की गरिमा को दिखाता है. मैंने किसी को कॉल नहीं किया, वह एक्टर ही थे जिन्होंने मुझे कॉल किया और अपना परिचय दिया. मैंने जो लॉ एंड ऑर्डर को लेकर आश्वासन दिया है वह मेरा संवैधानिक कर्तव्य है. इसमें खोजने जैसा कुछ नहीं है.’

By Nikita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *