भारतीय कपड़ा उद्योग: वस्त्र जल्द हो सकते हैं सस्ते, कपास और धागे की कीमतें नीचे की ओर – News India Live,


नई दिल्ली। पिछले एक महीने में कपास और धागे की कीमतों में लगातार गिरावट से कपड़ा कीमतों में कमी आने की उम्मीद है। कपड़ा कीमतों में नरमी से घरेलू कपड़ा विनिर्माताओं को पिछले साल के त्योहारी सीजन की तुलना में त्योहारी सीजन के दौरान 25-30 फीसदी अधिक कारोबार की उम्मीद है। पिछले डेढ़ महीने में कपास की कीमतों में अपने उच्चतम स्तर से 30 फीसदी की गिरावट आई है। वहीं, यार्न की कीमतें अपने उच्चतम स्तर से 20 फीसदी नीचे आ गई हैं।

कन्फेडरेशन ऑफ इंडियन टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज के पूर्व अध्यक्ष संजय जैन ने कहा कि कच्चे माल की कीमतों में गिरावट से निश्चित रूप से राहत मिलेगी और त्योहारी सीजन में कारोबार बढ़ेगा। किसी भी गिरावट या कच्चे माल में वृद्धि के प्रभावों को अंतिम उत्पाद तक पहुंचने में कम से कम दो महीने लगते हैं।

कॉटन और यार्न की कीमतों में गिरावट से अब रेडीमेड गारमेंट्स की कीमतें नहीं बढ़ेंगी और माना जा रहा है कि सितंबर तक टेक्सटाइल मार्केट थोड़ा सस्ता हो जाएगा। त्योहारी सीजन के दौरान कपड़ों की मांग बढ़ने की उम्मीद में कपड़ा निर्माताओं ने उत्पादन शुरू कर दिया है। फेस्टिव सीजन सितंबर से शुरू होगा। मार्च-अप्रैल तक कपास और धागे की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी के कारण मई-जून में कपड़ा कीमतों में मामूली बढ़ोतरी हुई थी लेकिन अब यह बढ़ोतरी रुकेगी। कपड़ा निर्माता और रिचलुक ब्रांड के निदेशक शिव गोयल ने कहा कि अगर कीमतें बढ़तीं तो कपड़ों की मांग प्रभावित होती लेकिन अब उन्हें त्योहार के दौरान अच्छे कारोबार की उम्मीद है।

यार्न की कीमतों में गिरावट से निर्यात को भी मिलेगा समर्थन
गारमेंट निर्यातकों का कहना है कि वैश्विक स्तर पर कॉटन और यार्न की कीमतें कम होने से उन्हें कच्चा माल पहले की तुलना में कम कीमत पर मिल रहा था और उनकी लागत भी कम थी। इससे उत्पाद की प्रतिस्पर्धात्मकता और बढ़ेगी। एक और महत्वपूर्ण बात यह है कि कपड़ा निर्माण और निर्यात में वृद्धि से रोजगार में भी वृद्धि होगी। हालांकि, बढ़ती वैश्विक मुद्रास्फीति से परिधान निर्यात पर भी असर पड़ने की संभावना है। भारतीय वस्त्रों के प्रमुख खरीदारों, अमेरिका और यूरोप दोनों में मुद्रास्फीति अब तक के उच्चतम स्तर पर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Adblock Detected

We rely on ads to provide you content please disable your ad blocker to continue viewing Our Content

Refresh Page