छोटे पर्दे का मशहूर सीरियल ‘कहानी घर घर की’ में नेगेटिव रोल निभाकर घर-घर में मशहूर हुई एक्ट्रेस श्वेता क्वात्रा एक बार फिर से चर्चा में हैं. एक्ट्रेस ने अपनी निजी जिंदगी को लेकर कुछ बड़े खुलासे किए हैं.
'कहानी घर घर की' फेम श्वेता क्वात्रा ने 5 साल तक लड़ी डिप्रेशन से जंग, अब कर रही हैं ये नेक कामShweta KawaatraImage Credit source: ट्विटर
छोटे पर्दे का मशहूर सीरियल ‘कहानी घर घर की’ तो सभी को याद होगा. इस सीरियल ने और इसके किरदारों ने लोगों के दिलों में अपनी खास जगह बनाई थी. एक वक्त ऐसा भी था जब लोग इस सीरियल के लिए इतने दीवाने थे कि इसके किरदारों के साथ हंसते थे और रोते भी थे. ‘कहानी घर घर की’ में पल्लवी का किरदार निभाने वाली अदाकारा श्वेता क्वात्रा टीवी इंडस्ट्री का बड़ा चेहरा हैं. एक्ट्रेस अपने काम के साथ-साथ अपनी पर्सनल लाइफ को लेकर भी काफी चर्चा में छाई रहती हैं.
पिछले काफी वक्त से श्वेता एक्टिंग से ज्यादा मदरहुड में बिजी नजर आ रही हैं. इसी बीच ये भी पता चला कि एक्ट्रेस काउंसलर भी बन गई हैं. हालांकि इस कबर पर उनका कहना है कि, ‘मैं अभी तक काउंसलर नहीं हूं. मैं अभी और पढ़ना है ताकि मैं काउंसलिंग को अपने करियर के साथ ले जा सकूं. श्वेता क्वात्रा पर्सनल ट्रेनिंग में भी सर्टिफाइड हैं. उन्हें पैरेंटिंग और इमोशमल बिहेवियर थेरेपी में भी अनुभव है.

श्वेता ने अपने इंटरव्यू के दौरान खुद के डिप्रेशन के बारे में भी बताया. जिसके चलते उन्होंने मेंटल हेल्थ के बारे में एक्सप्लोर करना शुरू किया. उनका कहना है कि ‘पोस्ट प्रेग्नेंसी डिप्रेशन का अनुभव करने के बाद मैं जिंदगी को पहले की तरह लापरवाही से नहीं देखती. ज्यादातर लोग ‘डिप्रेशन’ शब्द का अलग-अलग तरह से इस्तेमाल करते हैं. यह हमारे शरीर में एक कैमिकल चेंज है, ये लो मूड और बोरियत से नहीं आता है.
एक्ट्रेस ने आगे कहा कि, मैंने पांच साल तक इसे झेला है. जबकि मेरे पति (अभिनेता मानव गोहिल) और परिवार ने इस दौरान मेरा साथ दिया, उनके लिए यह समझना मुश्किल था कि मैं किस दौर से गुजर रही हूं. मैं सही काम करने में दूसरों की मदद करना चाहती थी, इसलिए बीमारी को समझना सीखना अगला कदम बन गया. श्वेता मेंटल हेल्थ पर खुलकर बात करने की सलाह देती हैं.ये भी पढ़ें

श्वेता ने आगे कहा, ‘मैं अपनी क्षमता से व्यक्तिगत चिंताओं को दूर करने को तैयार हूं. मैं उनकी समस्याओं को सुनती हूं और उनकी सही तरीके से मदद करती हूं. अगर मुझे लगता है कि मुझसे नहीं होगा, तो मैं उन्हें मनोवैज्ञानिक या मनोचिकित्सक के पास भेज देती हूं. एक्ट्रेस ने अपनी पर्सनल लाइफ में आई परेशानियों के चलते ये काउंसलर बनने की ओर अपना कदम उठाया है.

By Nikita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *