पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या: वर्तमान समय में जीवनशैली बहुत तनावपूर्ण हो गई है, करियर और काम के दबाव (Lifestyle Changes) के कारण कई लोग अपने स्वास्थ्य को नज़रअंदाज़ कर चुके हैं. उन्हें स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों का भी सामना करना पड़ रहा है। इसका मुख्य कारण बदलती जीवनशैली और भागदौड़ भरी जिंदगी है। इन सबका परिणाम स्वास्थ्य संकट है। बुरी आदतों की वजह से अब पुरुषों की सेहत पर भी गंभीर परिणाम पड़ रहे हैं। इस साल कुछ ऐसे ही कारणों से पुरुष भी अपनी सेहत को नजरअंदाज कर रहे हैं। इसके साथ ही यह उनकी प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित करता है। इसलिए पुरुषों के लिए जरूरी है कि समय रहते ही इन बुरी आदतों को छोड़ दें। तो आइए जानते हैं कि आखिर पुरुषों को यहां किन बातों का ध्यान रखना चाहिए। (हेल्थ टिप्स, ये हैं असर पुरुषों के स्पर्म काउंट को कम कर सकते हैं, इन बुरी आदतों से बचें)
इनमें से कुछ बुरी आदतें पुरुष प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित करती हैं। यहां कुछ कारण बताए गए हैं कि आपके स्पर्म काउंट क्यों गिर सकते हैं। इन आदतों में शराब की लत के साथ-साथ सिगरेट की लत भी शामिल है, संभावना है कि उनके शुक्राणुओं की संख्या कम हो जाएगी। इसलिए अगर आपको शराब और सिगरेट पीने की आदत है तो इसे इग्नोर न करें, कुछ उपाय करें और इस आदत को छोड़ने की कोशिश करें, आपको भी अच्छा फर्क महसूस होगा। वर्तमान जीवनशैली को देखते हुए लोगों में धूम्रपान और शराब पीने की बुरी आदत बढ़ती जा रही है। इसलिए इसे नज़रअंदाज न करें। 
अनिद्रा आज के समय की सबसे आम समस्या है। इससे कई बार लोगों को काफी गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ता है। वहीं, इसके कारण पुरुष प्रजनन क्षमता में भारी कमी आ जाती है। दरअसल, रात में नींद पूरी न होने से पुरुषों के शरीर में स्पर्म काउंट और सेहत में कमी आने की आशंका रहती है। इसलिए काम के तनाव के चलते रात को समय पर सोना बहुत जरूरी है। लेकिन बदलती जीवनशैली की वजह से रात में समय पर सोना हमारे लिए मुश्किल हो जाता है, जिससे रात में मोबाइल फोन देखने और रात भर जागते रहने से पुरुषों की सेहत पर काफी असर पड़ता है। 

 
कुछ पुरुष तो काम के दबाव में एक्सरसाइज भी नहीं कर पाते हैं, इसलिए पुरुष इसे नजरअंदाज कर देते हैं। इसका उनके शरीर पर काफी प्रभाव पड़ता है। दैनिक जीवन में व्यायाम के कम प्रयोग से वजन बढ़ने लगता है और इससे पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या में कमी आने की संभावना रहती है। इसलिए व्‍यायाम पर ध्‍यान दें। इनमें सबसे अहम है तनाव। तनाव पुरुषों के स्वास्थ्य में भी बदलाव का कारण बनता है। इसलिए तनाव कम करने पर भी ध्यान दें क्योंकि यह आपके स्पर्म काउंट को भी प्रभावित कर सकता है। 

By Sonya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *