कान की सच्चाई: हम अपने आस-पास कई ऐसे लोगों को देखते हैं जिन्हें बहुत तेज बोलने की आदत होती है। जब कोई बहुत तेज गति से बात करता है तो उससे बात करना बहुत मुश्किल हो जाता है। साथ ही, जो कुछ कहा गया है, उसमें से आधे से अधिक लोगों की प्रतिक्रिया है, जो अपना सिर खो चुके हैं या कुछ भी समझ नहीं पाए हैं। अब सवाल उठता है कि ऐसे में हमारे कान व्यक्ति की आवाज सुन रहे होते हैं, लेकिन जब व्यक्ति तेजी से बोलता है तो हम उसी गति से सुन और समझ क्यों नहीं पाते? ऐसा क्यों होता है और इसके पीछे क्या कारण है आइए जानते हैं।
ध्वनि क्या है?
हम सब ध्वनि जानते हैं। ध्वनि एक प्रकार की तरंग है, जिसके संचरण के लिए ठोस, द्रव या गैस जैसे माध्यम की आवश्यकता होती है। ध्वनि तरंगों की गति माध्यम के घनत्व पर निर्भर करती है। ध्वनि की गति सबसे अधिक ठोस में, फिर द्रव में और फिर गैस में होती है। ये तरंगें अनुदैर्ध्य यांत्रिक तरंगें हैं। जिसकी फ्रीक्वेंसी 20Hz से 20000Hz के बीच होती है। हमारे कान इस रेंज की तरंगों को सुन सकते हैं। इस श्रेणी की तरंगों को श्रव्य तरंगें कहा जाता है।
हम ध्वनि को कैसे समझते हैं?
शरीर की बनावट भी हैरान करने वाली होती है। ध्वनि सुनने के लिए कान का बहुत महत्व है। तो, मनुष्य के पास समझने के लिए दिमाग है। कोई भी आवाज हमारे कानों से मस्तिष्क तक पहुंचने में 1/10 सेकेंड का समय लेती है। उस समय मस्तिष्क उस ध्वनि को पहचानता और समझता है। मस्तिष्क तब कान को अगली ध्वनि सुनने का निर्देश देता है।
…इसके लिए बोले गए शब्दों को नहीं समझता 
अब यदि कोई व्यक्ति 1/10 सेकंड से भी तेज बोलता है तो उसकी आवाज हमारे कानों तक पहुंचती है लेकिन हमारे कानों को वह आवाज सुनाई नहीं देती। इसलिए वह आवाज लगातार दिमाग तक नहीं पहुंच पाती और हम उसे समझ नहीं पाते। यही कारण है कि जब कोई तेज बोलता है तो हम उसके कुछ ही शब्द सुनते हैं और कुछ भी नहीं सुनते हैं अर्थात समझते नहीं हैं।

By Sonya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *